Friday, 19 September 2014

मेरी मन्जिल

सीढिया उन्हे मुबारक हो,
जिन्हे छत तक ही जाना है
मेरी मन्जिल तो आसमान है
रास्ता खुद मुझे बनाना है!